आज के युग में मानव जीवन, वैज्ञानिक उपलब्धियों और उनके दैनिक जीवन में उपयोगों पर आधारित है। अतः लोगों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण एवं तरीके अपनाने की प्रवृत्ति और उनसे संबंधित मामलों पर निर्णय लेने की प्रक्रियाओं में भागीदारी हेतु उन्हें सक्षम बनाना अनिवार्य हो गया है । म.प्र.विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद्, आम जनता एवं विशेष रूप से विद्यार्थियों में विज्ञान के प्रति जागरूकता विकसित करने, वैज्ञानिक सोच को जाग्रत करने एवं दैनिक जीवन में विज्ञान के व्यावहारिक उपयोगों की जानकारी प्रदान करने के लिए प्रयासरत है। इस हेतु परिषद् वर्ष भर विज्ञान लोकव्यापीकरण की विभिन्न गतिविधियां एवं कार्यक्रम आयोजित करती है। प्रदेश में विज्ञान से संबंधित नवीन गतिविधियों एवं प्रषिक्षण कार्यक्रमों हेतु राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार परिषद् (एन.सी.एस.टी.सी.), विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार द्वारा कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है।

  • विद्यार्थियों एवं जनसामान्य में विज्ञान लोकव्यापीकरण।
  • विद्यार्थियों में जिज्ञासा एवं सृजनात्मकता का विकास।
  • विद्यार्थियों में खोजी प्रवृत्ति का विकास।
  • विद्यार्थियों में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा की भावना का विकास।
  • जन सामान्य में वैज्ञानिक अभिरूचि का प्रोन्नयन करना एवं जीवन में विज्ञान के व्यावहारिक उपयोग की जानकारी प्रदान करना।
  • शिक्षकों को विज्ञान शिक्षण पद्धति में नवाचार हेतु प्रेरित करना ।