मध्यप्रदेश प्राकृतिक संसाधनों एवं वनाश्पतिक तथा वन्यजीव जैव विविधता के क्षेत्र में समृद्ध एवं सम्पन्न प्रदेश है । वर्तमान संसाधनों के आधार पर प्रदेश का विकाश तीव्र गति से हो रहा है । इस पृष्ठभूमि में आवश्यक है कि मानव संसाधनों द्वारा अपने यहां के संसाधनों का इष्टतम उपयोग किया जाये । प्राकृतिक संसाधनों के दोहन एवं सम्यक प्रबंधन का अक्षय उपयोग करने के लिए सर्वेक्षण तथा मानचित्रण विधाओं का उपयोग आवश्यकता है। इसके परिणामस्वरुप विभिन्न स्त्रोतों से एकत्रित आंकड़ों का विश्लेषण करने के बाद संसाधन एटलस प्रस्तुत किया जायेगा । मध्यप्रदेश् विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् द्वारा उपर्युक्त तथ्यों को ध्यान में रखते हुए प्रदेश, जिला एवं क्षेत्रीय स्तर पर संसाधन एटलस तैयार किया जायेगा । यह एटलस योजनाविदों, शिक्षा शास्त्रियों, वैज्ञानिकों, शोधार्थियों एवं विद्यार्थियों को उत्कृष्ट, प्रामाणिक एवं अद्यतन जानकारियां उपलब्ध करायेगा ।