परिषद् का दूसरा महत्वपूर्ण निकाय कार्यकारी समिति है जिसके चेयरमैन माननीय मंत्री, म.प्र. शासन, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग हैं । कार्यकारी परिषद् में कुल 13 सदस्य हैं, जिसमें विधायक, शिक्षाविद , वैज्ञानिक एवं प्रमुख सचिव आदि सदस्य हैं ।

कार्य

  • परिषद के कार्यो को संचालित करने के उद्देश्य से योजनाएं बनाना एवं लागू करना जिससे विज्ञान एवं तकनीकी को प्रोत्साहन मिलें।
  • परिषद् की गतिविधियों एवं कार्यक्रमों हेतु आमसभा के अनुमोदन हेतु बजट तैयार करना।
  •  विज्ञान एवं तकनीकी योजनाओं एवं कार्यक्रमों को बनाना एवं अनुमोदित करना तथा उसका क्रियान्वयन करना।
  • आधारभूत वैज्ञानिक शोध को प्रोत्साहित करना एवं उन सभी गतिविधियों को सहयोग करना जो तकनीकी विकास में सहायक है।
  • विज्ञान एवं तकनीकी इनपुट शासन, स्वशासी संस्थाओं, अर्थ-शासकीय संस्थाओं एवं अन्य संस्थाओं को उपलब्ध कराना।
  • आवश्कतानुसार विषिष्ट समस्याओं हेतु टास्क फोर्स का गठन करना जिसमें शोध परियोजनायें अध्ययन एवं इसी तरह की गतिविधियां सम्मिलित है।
  • अनुदान स्वीकृत करना।
  • उत्कृष्ट शोध एवं विकास कार्यों हेतु सम्मान प्रदान करना।
  •  सेमिनार एवं कांफ्रेन्स आयोजित करना।